ISSN : 2231-4989

अंतरभाषिकी


भारतीय भाषाओं में राष्ट्रबोध की अवधारणा - वागीश राज शुक्ल

भारतीय भाषाओं में राष्ट्रबोध की अवधारणा - वागीश राज शुक्ल

भावाभिव्यक्तये प्रयुक्तानां सार्थकशब्दानां समष्टिरेव भाषा इति उच्यते अर्थात् भावाभिव्यक्ति के लिए प्रयुक्त सार्थक शब्दों की समष्टि ही भाषा कही जाती है ।

>> आगे पढ़ें

Towards Creating Lexical Hierarchies of ‘Daily Life’ in Nepali- Vidyarati Joshi

Towards Creating Lexical Hierarchies of ‘Daily Life’ in Nepali- Vidyarati Joshi

Towards Creating Lexical Hierarchies of ‘Daily Life’ in Nepali- Vidyarati Joshi

Introduction

This paper aims to study the nature of semantic representation of lexical items, and the

>> आगे पढ़ें
News: >>प्रकाशकीय नीति>>संकटग्रस्त भाषाओं के सर्वेक्षण का काम शुरू>> हेलो शब्द कहाँ से आया? >>देश की भाषाओं के लिए नई ऊर्जा से काम करने की आवश्यकता है