>>Languages of the North East with special reference to Khasi - S.A.Lyngdoh>>प्राकृत साहित्य में वास्तुविद्या-निरूपण - वृषभ प्रसाद जैन>>हिंदी का आदि-वैयाकरण कौन? - विक्रम गुप्ता>>A major contribution to the linguistic typology of the South Asian linguistic area- Sanford B Steever>>देवनागरी से रोमन लिप्यंतरण : अंग्रेजी-हिंदी मशीनी अनुवाद के विशेष संबंध में - अम्ब्रीश त्रिपाठी>>उत्तर-आधुनिकता की पश्चिमी और हमारी अवधारणा में अंतर है- उदय नारायण सिंह>>The Morphology of Khasi Verbs and their Semantics-Saralin A. Lyngdoh>>कोश : इतिहास एवं वर्तमान - बृजेश कुमार यादव>>आदिवासियों का ज्ञान उनके जीवन जीने की कला है - प्रो. गणेश देवी>>मशीनीकरण से कंप्यूटरीकरण - कृष्ण कुमार गोस्वामी>>आज मैंने अपने मोबाईल से एक नंबर डीलीट कर दिया, हमेशा के लिए- अरिमर्दन>>भाषा अनुरक्षण एवं विस्थापन : एक मूल्यांकन - सुमेधा शुक्ला>>भारतीय भाषाएँ और भाषिक संसाधन - धनंजय विलास झालटे>>बुन्देली और हिन्दी का औच्चारणिक व्यतिरेकी अध्ययन - अंकिता आचार्य>>हिन्दी शब्दतंत्र की संरचना - प्रभाकर पाण्डेय, लक्ष्मी कश्यप, पुष्पक भट्टाचार्य>>कभी भी अंग्रेजी भारतीय भाषा नहीं बन सकती- के॰ वी॰ सुब्बाराव>>विज्ञान के भाषा के रूप में संस्कृत- मार्कण्डेय काटजू>>हमारी चुनौतियाँ यूरोप की तुलना में बहुत ज्यादा हैं- स्वर्णलता>>‘पाठ विश्लेषण’: गुपुत प्रगट जहँ जो जेहिं खानिक - ऋषभ देव शर्मा>>एक उगते सूरज का ढल जाना – अरिमर्दन कुमार त्रिपाठी>>हिंदी-अंग्रेजी पुनरुक्ति शब्दों का आर्थी विश्लेषण - शिल्पा>>आनलाइन शॉपिंग सुविधा एवं सावधानियाँ - अंजनी राय>>व्याकरणिक संसक्ति की युक्तियाँ- मोहिनी मुरारका>>A Computational Morphological Analysis of Marathi Negative Markers- Swapnil D. Moon>>जन की भाषा में जन का रचनाकार: कृशन चंदर - मृत्युंजय प्रभाकर>>Case Marker in Bokar- Geyi Ete>>अनुवाद का सैध्दांतिक परिप्रेक्ष्य - सुमेध खु. हाडके>>कथक में स्त्री की आवाज़ और प्रतिरोधी स्वर- अवंतिका शुक्ला>>भाषा अभियांत्रिकी का उद्भव एवं विकास : प्रवेश कुमार द्विवेदी>>A Socio-Cultural Perspective on Second Language Acquisition - Soumi Mandal>>जाना भाषाविज्ञान के पितामह का - अरिमर्दन कुमार त्रिपाठी>>भारत की शि‍क्षा नीति‍ और राजभाषा नीति - राहुल खटे>>भाषाविज्ञान एक परिचय - आम्रपाल शेंद्रे एवं अम्ब्रीश त्रिपाठी>>वैदर्भिय बोली का काल, पक्ष एवं वृत्ति - स्वप्निल डी. मून>>The Concept of Language : Noam Chomsky>>मशीनी अनुवाद : भूत, वर्तमान एवं भविष्य - करुणा निधि>>हिंदी बनाम अंग्रेजी शब्दकोश - विक्रम गुप्ता>>प्राकृतिक भाषा संसाधन ( NLP) में संदिग्‍धार्थकता की प्रकृति - प्रवेश कुमार द्विवेदी>>Towards Creating Lexical Hierarchies of ‘Daily Life’ in Nepali- Vidyarati Joshi>>हिंदी भाषा का आधुनिकीकरण - दिनकर प्रसाद>>भारतीय भाषाओं में राष्ट्रबोध की अवधारणा - वागीश राज शुक्ल>>क्या भाषा थोपने की चीज है ..? - परिमळा अंबेकर>>वर्हाडी बोली पर हिंदी का वाक्यस्तरीय प्रभाव - विजय सागर>>Honorificity and Classifier in Assamese – Samhita Bharadwaj>>Language Interrelations: The Degeneration of Socio-Cultural and Traditional Values in Khasi and Hmar - Saralin A. Lyngdoh and Marina Laltlinzo Infimate>>अंतरप्रतीकात्मक अनुवाद की संकेतवैज्ञानिक पृष्ठभूमि -मेघा आचार्य>>भारत में मशीन अनुवाद का विकास - आम्रपाल शेंदरे>>हिंदी का नया वितान: सोशल मीडिया- डॉ॰ अम्ब्रीश त्रिपाठी>>बातचीत के माध्यम से बच्चों को समझना : एक अनुभव - साहबउद्दीन अंसारी>>भाषा-परिवार के आधार पर अंग्रेजी-हिंदी भाषाओं का तुलनात्मक अध्ययन एवं अनुवाद का संदर्भ : विंध्यवासिनी पाण्डेय>>गोदान के अनुवाद का भाषिक विश्लेषण : समाज सापेक्ष – सुबोध कुमार>>हिंदी-मराठी में काल संरचना: व्यतिरेकी अध्ययन – प्रफुल्ल मेश्राम>>हिंदी भाषा शिक्षण और अधिगम संबंधी वेबसाइटों का मूल्यांकन - संजय कुमार

ISSN : 2231-4989

:: डाटाबेस ही कल के ज्ञानकोश होंगे, अपने समाज की क्षमता के सूचक होंगे और अपने प्रयोग में ये सामाजिक जीवन-प्रक्रिया के अंग होंगे।- ल्योतार्द (The Postmodern Condition, Page-51) - ::

आलेख


भाषा-परिवार के आधार पर अंग्रेजी-हिंदी भाषाओं का तुलनात्मक अध्ययन एवं अनुवाद का संदर्भ : विंध्यवासिनी पाण्डेय

भाषा-परिवार के आधार पर अंग्रेजी-हिंदी भाषाओं का तुलनात्मक अध्ययन एवं अनुवाद का संदर्भ : विंध्यवासिनी पाण्डेय

प्रस्तावना:

भाषा-परिवार के दृष्टिकोण से देखा जाए तो अंग्रेजी एवं हिंदी दोनों ही भाषाएँ भारोपीय भाषा-परिवार से संबंधित हैं। अंग्रेजी एवं हिंदी भारोपीय भाषा परिवार के अलग-अलग शाखाओं से संबंध रखती हैं। भारोपीय भाषा-परिवार का क्षेत्र काफी वृहद है क्योंकि इसमें भारत एवं यूरोप से संबंधित बहुत सी भाषाएँ सम्मिलित हैं। यह कहना कतिपय तर्कसंगत नहीं होगा कि भारोपीय भाषा-परिवार में भारत एवं यूरोप की सभी भाषाएँ समाहित हो जाती हैं क्योंकि यहाँ की बहुत सी भाषाएँ अन्य भाषा-परिवारों

>> आगे पढ़ें
नमन
भाषा-शिक्षण
पुस्तक समीक्षा
साक्षात्कार
अंतरभाषिकी
शोध
आलेख
पुस्तक समीक्षा
अनुवाद-चिंतन
वैचारिकी
नमन
नमन
पुस्तक समीक्षा

Indexed by TDIL, Govt. of India.

URL http://www.beamerwin.de festplatten test 2014
News: >>प्रकाशकीय नीति >>संकटग्रस्त भाषाओं के सर्वेक्षण का काम शुरू>> हेलो शब्द कहाँ से आया? >>देश की भाषाओं के लिए नई ऊर्जा से काम करने की आवश्यकता है